छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005|छ. ग. महिला पर्यवेक्षक परीक्षा 2021|प्रश्नोत्तरी

छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005

महिला पर्यवेक्षक भर्ती परीक्षा 2021 (c.g. mahila paryavekshak bharti pariksha 2021)| छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 मॉडल प्रश्नोत्तरी| छ.ग. महिला पर्यवेक्षक से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तरी| छ.ग. महिला पर्यवेक्षक मॉडल प्रश्नोत्तरी

छ. ग. महिला पर्यवेक्षक परीक्षा 2021।छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005।प्रश्नोत्तरी

आज हम इस पोस्ट में छ. ग. महिला पर्यवेक्षक परीक्षा से संबंधित एक महत्वपूर्ण टॉपिक्स के बारे में जानकारी देने वाले है। इस टॉपिक्स का नाम है टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005, जैसा कि आप सभी को पता है, जो पुराने जमाने की सोच थी, हम लोग भले ही आगे बढ़ गए है पर जो हमरा पिछड़ा समुदाय है, जो गांव क्षेत्र में निवास करते है, वह पर महिलाओं को प्रताड़ित किया जाता है या उन पर एक आरोप लगाया जाता था कि वो टोनही है। 

टोनही का मतलब की वह काला जादू करती है या जादू – टोना करती है जिसके माध्यम से ये लोगो को अपने वास में कर लेती है और आर्थिक या सामाजिक प्रकार का नुकसान पहुचाती है। लोग उन्हें टोनही कहकर प्रताड़ित किया करते थे। किसी का बाल कट लिया जाता था तो किसी को पेड़ में लटकाकर मर दिया जाता था। इसी सभी कुरीतियों को दूर करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ सरकार ने एक अधिनियम पारित किया जिसे टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के नाम से जाना जाता है। इस अधिनियम को छत्तीसगढ़ सरकार ने 30 सितंबर 2005 से पूरे छत्तीसगढ़ में लागू कर दिया है। 

टोनही की परिभाषा:

“टोनही” से अभिप्रेत है व्यक्ति जिसे किसी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों द्वारा उपदर्शित (Indicated) किया जायें की वह किसी अन्य व्यक्ति अथवा व्यक्तियों अथवा समाज अथवा अथवा पशु अथवा जीवित वस्तुओं को काला जादू , बुरी नजर या किसी अन्य रीति से हानि पहुँचायेगा अथवा हानि पहुंचाने की शक्ति रखता है अथवा इस तरह वह हानि पहुंचाने का आशय रखता हूं, चाहे वह डायन, टोनहा अथवा किसी नाम से जाना जाता है।

इस अधिनियम से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न है जो आने वाले महिला पर्यवेक्षक परीक्षा 2021 के दृष्टि से उपयोगी सिद्ध हो सकते है। तो चलिए इस अधिनियम से संबंधित प्रश्न का अध्ययन करते है।

Table of Contents

टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 से संबंधित प्रश्नोत्तरी

Q1. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 को राज्यपाल द्वारा कब स्वीकृति प्रदान की गई?

A. 26 अगस्त 2005 को

B. 26 सितंबर 2005 को

C. 16 नवम्बर 2095 को

D. 26 दिसम्बर 2005 को

B. 26 सितंबर 2005 को

Q2. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 को सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ में कब से लागू किया गया है?

A. 26 सितंबर 2005 से

B. 30 सितंबर 2005 से

C. 16 दिसम्बर 2005 से

D. इनमें से कोई नही

B. 30 सितंबर 2005 से

Q3. इस अधिनियम की किस धारा में टोनही को परिभाषित किया गया है?

A. धारा 1 में

B. धारा 2 में

C. धारा 3 में

D. धारा 4 में

B. धारा 2 में

Q4. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति किसी भी माध्यम से टोनही के रूप में किसी की पहचान करता है, तो उस व्यक्ति को कितने वर्ष का कारावास दिए जाने का प्रावधान है?

A. 2 वर्ष का कठोर कारावास

B. 3 वर्ष का कठोर कारावास

C. 4 वर्ष का कठोर कारावास

D. 5 वर्ष का कठोर कारावास

B. 3 वर्ष का कठोर कारावास

Q5. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत किये गए सभी अपराध होंगे – 

A. संज्ञेय और अजमानतीय

B. असंज्ञेय और अजमानतीय

C. संज्ञेय और जमानतीय

D. असंज्ञेय और जमानतीय

A. संज्ञेय और अजमानतीय

Q6. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत समस्त अपराध विचारणीय होंगे – 

A. प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी द्वारा

B. जिला न्यायालय द्वारा

C. कुटुंब न्यायालय द्वारा

D. किसी भी न्यायालय द्वारा

A. प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी द्वारा

Q7.छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत नियम बनाने की शक्ति है?

A. राज्य सरकार को

B. जिला न्यायालय को

C. जिला कलेक्टर को

D. उच्च न्यायालय को

A. राज्य सरकार को

Q8. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 में कुल कितने धाराएँ है?

A. 15

B. 16

C. 17

D. 18

B. 16

Q9. छ० ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत यदि को व्यक्ति टोनही होने का दावा करता है, तो उसे कितने वर्ष का कारावास हो सकता है?

A. 1 वर्ष का कठोर कारावास

B. 3 वर्ष का कठोर कारावास

C. 5 वर्ष का कठोर कारावास

D. 6 वर्ष का कठोर कारावास

A. 1 वर्ष का कठोर कारावास

Q10. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति किसी को टोनही कहकर उसे प्रताड़ित करता है तो उसे कितने वर्षों का कारवास हो सकता है?

A. 3 वर्ष

B. 5 वर्ष

C. 6 वर्ष

D. 7 वर्ष

B. 5 वर्ष

Q11. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति ओझा होने का दावा करता है तो इसे कितने वर्ष का कारावास हो सकता है?

A. 3 वर्ष

B. 5 वर्ष

C. 6 वर्ष

D. 7 वर्ष

B. 5 वर्ष

Q12. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत बनाए गए किसी नियम के अधीन किसी अधिकारी या प्राधिकारी द्वारा निर्णय अथवा पारित आदेश के विरूद्ध कोई वाद – 

A. सिविल न्यायालय ग्रहण नही करेगा

B. सिविल न्यायालय ग्रहण करेगा

C. उच्च न्यायालय ग्रहण करेगा

D. कुटुंब न्यायालय ग्रहण करेगा

A. सिविल न्यायालय ग्रहण नही करेगा

Q13. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 की किस धारा में पीड़िता को मुआवजा देने का प्रावधान है?

A. धारा 12

B. धारा 13

C. धारा 14

D. धारा 15

B. धारा 13

Q14. छ०ग० टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के अंतर्गत ‘हानि’ में शामिल है?

A. शारिरिक व मानसिक नुकसान

B. आर्थिक नुकसान

C. प्रतिष्ठा को नुकसान

D. उपरोक्त सभी

D. उपरोक्त सभी

नोट : इस पोस्ट में हमने टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्नों को लिया है. अगर किस पोस्ट में किसी भी प्रकार की त्रुटि मिलती है तो तुरंत हमसे सम्पर्क करे. त्रुटि को जल्द से जल्द सुधारने का प्रयास किया जायेगा.

Share This :

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp